Tuesday, 4 October 2022

किन्नरों की स्वीकार्यता की संकल्पित संस्तुति

        संसार में सामान्य स्त्री-पुरुष के अतिरिक्त कुछ ऐसे प्राणी भी हैं जो सामान्य तौर पर पूरी तरह से पुरुष होते हैं और ही पूरी तरह से स्त्री। सामान्यतया सामाजिक रूप से इन्हें हम तृतीयलिंगी के नाम से सम्बोधित करते हैं। इनके लिए किन्नर, हिजड़ा आदि शब्द भी प्रयुक्त किए जाते हैं।  समाज,धर्म-अध्यात्म, विज्ञान तृतीयलिंगी या किन्नर को अपने-अपने तरीकों से व्याख्यायित करता है। साहित्य में भी किन्नरों पर अब पर्याप्त रूप से अध्ययन-चिंतन किया जा रहा है। अनेक पुस्तकें ऐसी प्रकाशित हुई हैं जिनमें किन्नरों के ऐतिहासिक सामाजिक परिप्रेक्ष्य पर दृष्टि डाली गई है। किन्नरों से सम्बंधित मिथ एवं यथार्थ को भी सामने लाया गया है। परंतु ऐसे कार्य बहुतायत में अंग्रेज़ी तथा अन्य भाषाओं में आसानी से उपलब्ध हैं। हिंदी में अभी ऐसी पुस्तकों की कमी है। वाणी प्रकाशन, नयी दिल्ली से प्रकाशित प्रियंका नारायण की पुस्तककिन्नर: सेक्स और सामाजिक स्वीकार्यताइसी प्रकार के अनुशीलन का प्रयास है जो किन्नरों के विभिन्न मुद्दों पर प्रकाश डालती है। अपनी प्रकृति में प्रस्तुत पुस्तक अनूठी है जिसमें किन्नरों पर विभिन्न दृष्टिकोणों से अध्ययन प्रस्तुत किया गया है। पुस्तक की भूमिका में वरिष्ठ साहित्यकार तेजेन्द्र शर्मा बहुत महत्त्वपूर्ण बात कहते हैं,“भारत में किन्नरों का भी एकगोल्डन एरायानी कि स्वर्णकाल था। दरअसल किन्नरों को मुग़ल साम्राज्य में सबसे पहले अहमियत दी गई थी। किन्नरों को महिलाओं के हरम की रक्षा की ज़िम्मेदारी दी जाती थी। मुगल साम्राज्य का मानना था कि किन्नर हमारे समाज का एक अहम हिस्सा हैं और इसीलिए उन्हें इतनी बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई।1

पुस्तक का प्रथम अध्यायलैंगिक अवधारणाहै। किन्नरों की लैंगिक अवधारणा को स्पष्ट करने से पहले प्रियंका नारायण सामान्य पुरुष और स्त्री की लैंगिक अवधारणाओं को विस्तार से समझाती हैं। हमारे शास्त्रों में कहा गया हैयत्पिंडे तथाब्रह्मांडेअर्थात् जो हमारे शरीर (पिण्ड) में है, वही इस ब्रह्मांड में विस्तार रूप में अवस्थित है अर्थात् हमारा यह शरीर भी सम्पूर्ण ब्रह्मांड का ही सूक्ष्म रूप मेंरिप्रेजेंटेशनहै।पंचमहाभूतों के सभी गुण मनुष्य में भी उपस्थित हैं। उल्लेखनीय है कि पाश्चात्य चिन्तन परम्परा में ब्रह्मांड की उत्पत्ति का कारणबिग-बैंग सिद्धान्तको माना जाता है। लेखिका के शब्दों में,“भारतीय तत्त्वचिन्तन उस एकल स्वरूप को ब्रह्म की संज्ञा देता है और कहता है कि यह ब्रह्म जब अपनी ही माया से मोहित हुआ तो स्वयं में उत्पन्न इस विकार से प्रकृति को उत्पन्न किया जिसने गर्भ में अपने अंश के रोपन के पश्चात् विभिन्न तत्त्वों की सृष्टि की। यहाँ यह ध्यातव्य है कि प्रकृति स्त्रीरूपा होते हुए भी लैंगिक स्त्री नहीं थी। यह उसी ब्रह्म की विवर्त थी और ब्रह्म को भी लिंग की सीमा से परे रखा गया है।2 इस अध्याय में प्रजनन प्रक्रिया का विवेचन जीववैज्ञानिक आधारों पर प्रस्तुत किया गया है। मानव समाज का विकास जंगल युग, बर्बर युग और सभ्यता युग के क्रम में माना जाता है। मानव अपनी बुद्धि और योग्यता के बल पर पशुओं के रहन-सहन से अलग होता गया और अपने जीवन स्तर में अपेक्षित सुधार करता गया। भोजन और सुरक्षा की मूलभूत आवश्यकताओं को जब मानव पूरा करता गया तो उसे कला और सौन्दर्य की आवश्यकता भी अपने जीवन में महसूस हुई। समाज के विकास के साथ-साथ मानव ने पशुपालन और कृषि भी करना सीखा। उल्लेखनीय है कि ये दोनों ही कार्यएक्सटेंसिवयानी कि पर्याप्त शारीरिक श्रम की माँग करते हैं। स्त्रियों की शारीरिक संरचना की तुलना में पुरुष की शारीरिक संरचना अधिक मजबूत और सक्षम होती है। अतः शक्ति को धारण करने वाले पुरुष का वर्चस्व धीरे-धीरे अन्य बातों के साथ-साथ समाज पर भी हावी होने लगा। स्त्री-पुरुष की विलासिता संतानोत्पत्ति और शारीरिक संतुष्टि का साधन बन गईं। पुरुष और स्त्री के साथ प्रियंका यहाँ किन्नरों की स्थिति भी स्पष्ट करती हैं,“प्रजनन और अस्तित्व विस्तार के इस दृढ़ मानसिक-बौद्धिक वातावरण में स्त्रियाँ तो हथियार बनीं, किन्नर वो भी नहीं बन पाए। जो भी है इसी जीवन के लिए है आगे नाथ पीछे पगहावाली स्थिति के कारण उनके अन्दर अस्तित्व विस्तार की लिप्सा समाप्त हो गई होगी। जहाँ अपना कुछ हो, वहाँ से विरक्ति हो ही जाती है। किन्नरों ने पाया कि मैं अर्जन कर के क्या करूँगा। मेरे बाद इस संपत्ति सुख को कौन भोगेगा। किन्नरों ने अपने अस्तित्व की लघुता और जीवन की निस्सारता को अच्छी तरह समझा। शायद यही कारण हो सकता है कि उन्होंने सामाजिक ताने-बाने में उलझना मुनासिब नहीं समझा हो और अपना एक अलग संसार निर्मित कर लिया हो। शुरुआती दौर में तो यह वैकल्पिक होता होगा परन्तु आगे चलकर यह भी एक रूढ़ि बन गई होगी और ये अपनी लैंगिक असमानता के उभरने के बाद समाज छोड़कर चले जाते होंगे या इन्हें बलात् भेज दिया जाता होगा। समाज ने इसे भी एक नियम बना लिया होगा जो आज भी परम्परा के नाम से चल रहा है।3 यह एक सच ही है कि हमारे धर्मग्रंथों में किन्नरों को संतानोत्पत्ति, सामाजिक रहन-सहन और सम्पत्ति; इन सभी प्रकार के अधिकारों से वंचित ही रखा गया है। किन्नर मनुष्य द्वारा स्वेच्छा से किया गया समाज और सम्पत्ति का त्याग धीरे-धीरे रूढ़िबद्धता के रूप में सामने आया और आज भी स्थिति यह है कि स्वयं सभ्य समाज ने किन्नरों को उनकी सामाजिक स्वीकार्यता से पदच्युत कर दिया।

परिवार समाज की सबसे छोटी इकाई है। जिसमें व्यक्तियों के पारस्परिक सम्बंध और दायित्व निर्धारित होते हैं। ध्यान से देखा जाए तो मानव के सामाजिक जीवन का आरम्भ उसके परिवार से ही हो होता है। मानव की प्रवृत्ति होती है कि वह आत्म अनुरक्षण के साथ-साथ अपनी जाति-प्रजाति का अनुरक्षण भी करता है। यह प्रजाति अनुरक्षण ही संतानोत्पत्ति का मूल आधार है। उल्लेखनीय है कि यह प्रवृत्ति मनुष्य के साथ-साथ धरती के प्रत्येक जीवधारी में विभिन्न रूपों में पाई जाती है। सामान्य तौर पर पुरुष और स्त्री तो इस कार्य के लिए उपयुक्त होते हैं परन्तु किन्नर यह कार्य नहीं कर सकते। इसीलिए समाज में स्त्री और पुरुष का महत्त्व अनेक दृष्टियों से अक्षुण्ण, उपयोगी और फलदायी रहा परन्तु किन्नरों को यह स्थान नहीं प्राप्त हो पाया। प्रियंका लिखती हैं,“शारीरिक और मानसिक रूप से स्त्रियों पर आधिपत्य जमा पाने के कारण हिजड़ा यानी तीसरा लिंग अपने पितृव्यों की गौरवानुभूति का विषय बन पाने के कारण भी उपेक्षित-बहिष्कृत हुए होंगे। समाज में पुरस्कृत पौरुष प्रकृति के धारक नहीं होने के कारण तीसरे लिंग ने अपनी उपयोगिता खोयी और परिवार की विरासत (पैतृक सम्पत्ति) से बहिष्कृत हुए।4 जीव वैज्ञानिक मानव शरीर को आंतरिक बाह्य रूप से जीव विज्ञान के जटिल सिद्धान्तों की कसौटी पर देखते हैं। अध्याय दोकिन्नर: एक जीववैज्ञानिक अध्ययनइन्हीं आधारों पर किन्नरों का जैविक विश्लेषण प्रस्तुत करता है। उल्लेखनीय है कि प्राणीशास्त्री किसी भी जीवधारी के पुरुष या स्त्री होने का कारण सम्बंधित हार्मोन को मानते हैं। हार्मोनल असंतुलन के कारण अनेक प्रकार के लैंगिक और मानसिक विकार उत्पन्न हो जाते हैं जिससे शरीर में विभिन्न प्रकार के परिवर्तन आकर अपना स्थान ग्रहण करते हैं। प्रियंका इन विकारों को जेंडर आईडेंटिटी, जेंडर बिहेवियर और सेक्सुअल ओरियंटेशन के परिप्रेक्ष्य में विस्तार से अभिलेखित करती हैं। पारलैंगिक (ट्रांससेक्सुअल) और किन्नर पर भी यहाँ विस्तार से प्रकाश डाला गया है। प्रियंका के शब्दों में,“भिन्न लिंगों में विभक्त शरीर का अपने शरीर के अनुसार अभिव्यक्त होना दो प्रकार का होता है। एक तो यह कि शरीर की सभी बातें सामान्य होने के बावजूद केवल मनोभावों में विरोधाभास पाया जाता है और दूसरा, शरीर का लैंगिक रूप से अविकसित और विकृति के साथ विकसित होना। पहली स्थिति को हम पारलैंगिक (ट्रांससेक्सुअल) कहते हैं और दूसरी स्थिति को किन्नर।5

पुराण भारतीय संस्कृति के सनातन आख्यान हैं। पुराणों में मानव इतिहास की अनेक कथाएँ प्राप्त होती हैं।ये कथाएँ उपकथाओं और अवांतर कथाओं में भी विभाजित हैं। पुराणों में सृष्टि की उत्पत्ति का वर्णन बहुत विस्तार से प्राप्त होता है। लगभग प्रत्येक पुराण में सृष्टि की उत्पत्ति, इसका विस्तार, इसके भूखंड, कालगणना आदि का वृहद् विवेचन वृत्तांत रूप में प्राप्त होता है। उल्लेखनीय है कि ये जानकारियाँ आज विज्ञान की कसौटी पर भी खरी उतरती हैं। पुराणों में स्त्री-पुरुष के वर्णन के साथ ही किन्नरों के वर्णन भी प्राप्त होते हैं। यहाँ इन्हेंकिंपुरुषकहा गया है। पुराणों में इनसे सम्बंधित जो कथाएँ मिलती हैं, वे थोड़े से हेरफेर के साथ अन्य पुराणों में भी मिलती हैं। सुद्युम्न, इला, मोहिनी, वृहन्नला, शिखंडी जैसे अनेक चरित्र पुराणों में इस विमर्श से सम्बंधित मिलते हैं। लेखिका ने पुराणों के क्रम पर दृष्टिपात करते हुए इनमें आई हुई किन्नर विमर्श से सम्बंधित कथाओं को विश्लेषण के साथ दर्शाया है। यहाँ यह तथ्य मुख्य रूप से उल्लेखनीय है कि परम्परागत रूप से अर्धनारीश्वर की अवधारणा किन्नर समाज से ही जुड़ती रही है। प्रियंका इन सभी कथाओं के आलोक में कोशिकीय विकास के मिथकीय रूपांतरण भी रेखांकित करती हैं। पुराणों के विभिन्न चरित्रों में यह स्पष्टतया दर्शनीय है। बकौल प्रियंका, “ध्यान देने योग्य एक दूसरा तथ्य यह भी है कि अभी तक सुद्युम्न या इला का प्रसंग आता है या फिर अर्धनारीश्वर काप्रजनन को आगे बढ़ाने की प्रक्रिया हमेशा एक ही शरीर में दो लिंगों की अवधारणा के साथ ही क्यों विकसित हो रही है और वह भी बिल्कुल आरम्भिक दौर में। क्या ऐसी कोई संभावना मौजूद हो सकती थी कि द्विलिंगी ही या द्विलिंगी भी गर्भ धारण करते हों जिसके बारे में वर्तमान विज्ञान बात कर रहा है।6 विभिन्न पुराणों जैसे विष्णु पुराण, शिव पुराण, भविष्य पुराण, ब्रह्मवैवर्त पुराण, स्कन्द पुराण, लिंग पुराण, कूर्म पुराण, अग्नि पुराण, श्रीमद्भागवत पुराण आदि में इन घटनाओं के उल्लेख प्रमुखता से मिलते हैं। यह तथ्य भी उल्लेखनीय है कि हिन्दू धर्म में पुराणों की कथाओं की व्याख्या दार्शनिक, आध्यात्मिक और तात्विक दृष्टिकोण की माँग करती है। जीवन के अनेक रहस्य इन कथाओं में अंतर्गुम्फित-से हैं। पुराणों में केवल मिथकीय घटनाएँ ही नहीं हैं। इनमें भावी जीवन के अनेक ऐसे पक्ष सूत्ररूप में मिलते हैं जो आज भी वैज्ञानिकों को सोचने पर मजबूर कर देते हैं। लेखिका का कथन समीचीन है,“वास्तव में यदि हम आधुनिक चिन्तकों और मतानुसार पुराणों को नकारने की कोशिश करें और किसी एक विचारधारा के खूँटे से बंधकरथर्ड जेंडरया कुछ ऐसे अस्तित्व जो कि पृथ्वी पर उतने ही पुराने हैं जितने कि हम, विचार देने की कोशिश करेंगे तो विचारधारात्मक रूप से भले ही वह स्वीकृत, प्रशंसनीय और मान्य हो जाए लेकिन शोध के निष्पक्ष मापदण्डों पर वह खरा नहीं उतरेगा। दूसरा यह भी कि अध्ययन का एक ही पक्ष परिभाषित होगा, उसका एक बहुत बड़ा पक्ष विचारधारात्मक पूर्वाग्रह से प्रभावित हो छूट जाएगा या फिर जो निष्कर्ष हम देंगे वह भी प्रभावित, एकांगी और अधूरापन लिए होगा। यहाँ किन्नर या हिजड़ा समुदाय को पूरी तरह से समझने के लिए हमें एक बार इतिहास के साथ मिथकीय इतिहास के पन्नों को भी खंगालना ही होगा क्योंकि भारतीय ऐतिहासिक समाज परिस्थितियों के बीज उन्हीं पन्नों में छिपे हैं। यह अलग बात है कि उन्हें पूरी तरह समझ पाने की पद्धति हमारे पास नहीं है।7

पौराणिक परिप्रेक्ष्य में किन्नर विमर्श का तलस्पर्शी अध्ययन आधुनिक युग में एक महत्त्वपूर्ण माँग की पूर्ति करता है। पुराणों के आधार पर किन्नर समुदाय का वर्णन केवल धार्मिक और आध्यात्मिक पक्ष को लेकर नहीं चला है अपितु वैज्ञानिकता की आधारभूमि पर इन सबको परखा गया है। भारतीय परम्परा में वैदिक ग्रंथों, उपनिषदों और आरण्यकों का महत्त्व किसी से छिपा नहीं है। वेद जहाँ विभिन्न प्रकार की ऋचाओं, संगीत-गान,औषधियों, यज्ञ-कर्म आदि का ज्ञान प्रदान करते हैं; उपनिषद् और आरण्यक वेदों की सरल व्याख्याएँ प्रस्तुत करते हैं और विभिन्न कथाओं के माध्यम से गूढ़ रहस्यों को स्पष्ट करते हैं। भारतीय मनीषा चारों पुरुषार्थों की सम्यक् प्राप्ति पर ज़ोर देती है। धर्म, अर्थ और मोक्ष के साथ-साथ यहाँकाम तत्त्वपर भी उतना ही ज़ोर दिया गया है। काम को तो हमारे यहाँब्रह्मानंद सहोदरके रूप में दर्शाया गया है।

अध्याय चारसेक्स और हिजड़ामें लेखिका ने कामसूत्र के अन्तर्गत हिजड़ों के सेक्स और इसकी प्रक्रिया पर व्यापक दृष्टि डाली है। ज्ञातव्य है कि सेक्स और जेंडर अलग-अलग अर्थ विस्तार रखने वाले दो अलग-अलग शब्द हैं। महर्षि वात्स्यायन द्वारा प्रणीत कामसूत्र का रचनाकाल ईसा की तृतीय शताब्दी के मध्य में माना जाता है। ज्ञातव्य है कि कामसूत्र में कुल सात अधिकरण, छत्तीस अध्याय, चौंसठ प्रकरण और 1250 सूत्र हैं।इसका द्वितीय अधिकरणसाम्प्रयोगिकसर्वाधिक महत्त्वपूर्ण है जो रतिशास्त्र का विस्तृत विवरण प्रस्तुत करता है। इसके दस अध्यायों में रतिक्रीड़ा, आलिंगन, चुम्बन आदि कामक्रियाओं का व्यापक और विस्तृत प्रतिपादन किया गया है। इसी दूसरे अधिकरणसाम्प्रयोगिकके अन्तर्गत नवां अध्यायऔपरिष्टिक प्रकरण