Tuesday, 31 December 2013

नूतन वर्ष मंगलमय हो !

वर्ष नया हो मंगलकारी, सुखी आपका हो जीवन
दूर वेदनाएं हों सारी, रहे प्रफुल्लित हर पल मन !
मिले सफलता कदम-कदम पर, पूरी हों अभिलाषाएं
कर्मयोग को साध्य बनाकर, अपना इच्छित फल पायें
बाहुपाश में जकड़ न पायें, असफलताओं के बंधन
दूर वेदनाएं हों सारी, रहे प्रफुल्लित हर पल मन !
स्वार्थ, लोभ, आलस्य, क्रोध, कलुषित भावों से मुक्ति मिले
जीवन के संघर्ष के लिए, अटल, असीमित शक्ति मिले !
मुक्त ईर्ष्या, द्वेष, घृणा से, हृदय आपका हो पावन
दूर वेदनाएं हों सारी, रहे प्रफुल्लित हर पल मन !
मानवता की सेवा करना, निज जीवन का लक्ष्य बनायें
अपना जीवन करें सार्थक, सारे जग में यश पायें !
मानवता पर हों न्योछावर, कर दें अपना तन,मन,धन
दूर वेदनाएं हों सारी, रहे प्रफुल्लित हर पल मन !

नूतन वर्ष की हार्दिक शुभकामनाओं सहित-
--राहुल देव-


No comments:

Post a Comment

पश्चिम में स्त्री-विमर्श और स्त्री-लेखन

यूरोप में 15वीं सदी के इतालियन रैनेसां की चरम परिणिति 18वीं सदी के ज्ञान-प्रसार आंदोलन  के रूप में हुई, जिस दौर में बुद्धिवाद चिंतन के केंद्...