Monday, 9 December 2013

चुनाव आने पर...


पूँजीवादी जन के नेता
जनता के हृदय सम्राट
दर्शन दुर्लभ हो गए
पधारे पाँच साल बाद आप
लोकतंत्र की चाट बिक गयी
सारे दोने साफ़ पड़े हैं
देर लगा दी आने में
अब तुम केवल चटनी को चाटो
फिर भीड़तन्त्र की रेल में
रेवडियाँ बाँटो !

- राहुल देव

1 comment:

  1. क्या कहने...कटाक्ष भी मिठास लिए...!

    ReplyDelete

पश्चिम में स्त्री-विमर्श और स्त्री-लेखन

यूरोप में 15वीं सदी के इतालियन रैनेसां की चरम परिणिति 18वीं सदी के ज्ञान-प्रसार आंदोलन  के रूप में हुई, जिस दौर में बुद्धिवाद चिंतन के केंद्...