Sunday, 10 July 2022

स्वर की शहनाई से निकले पद्मश्री शरद जोशी के जीवन-स्वर


द्मश्री शरद जोशी व्यंग्यकार से पहले एक सहज-सरल, स्नेह-संवलित, आत्मीय व्यक्तित्व की पराकाष्ठा थे। अस्सी के दशक में उन्हे पहली बार मुंबई; तब के बम्बई के पेडर रोड स्थित सोफिया महाविद्यालय के सभागार के काव्य-मंच पर देखा और सुना। मंच कवियों का था- भवानीप्रसाद मिश्र, धर्मवीर भारती जैसे दिग्गज कवियों के मंच पर एक मात्र गद्यकार थे - शरद जोशी। शरद जी के गद्य श्रवण का यह पहला मौका था जहॉं मैने साक्षात देखा, सुना और महसूस किया कि कवियों के मंच पर गद्यकार छा गया था। हंसते-हॅंसते लोगो के गाल दुखने लगे और तालियॉ पीटते पीटते हाथ। इसी से शरद जी के संदर्भ मे एक कहावत ये भी बनी कि ‘मंच कवियों का बाजी-गद्यकार की।‘

            शरद जी से संपर्क करने का दूसरा मौका इसी महाविद्यालय में सन् 1985 में तब मिला जब साहित्यिक आयोजन की चर्चा के दौरान एक छात्रा ने शरद जोशी को बुलाने के आग्रह किया। उन दिनों दूरदर्शन पर शरद जी के ये जो है जिन्दगी, वाह जनाब जैसे धारावाहिक आ रहे थे। विभागाध्यक्ष जी का मानना था कि महाविद्यालयीन विभागों की सीमित धनराशि के लिये शरद जी अपना समय नहीं देंगं। छात्राओं के अनुरोध ने मन को सम्बल दिया था, प्राध्यापकीय जिम्मेदारी महसूस करते हुए मैने प्रयत्न करने की अनुमति मांगी। प्राध्यपकीय पहल करते हुए शरद जी को फोन पर अपना परिचय दिया, सशंकित मन से छात्राओं का अनुरोध सुनाया। मन इन्कार सुनने को तैयार था , किन्तु यह क्या ? शरद जोशी ने तो यह कहते हुए संभावित तारीख दे दी कि मैं दो दिन पहले उन्हे याद दिला दूं। ये थे विश्व पटल के विख्यात रचनाकार, फिल्मकार, धारावाहिकों के लेखक- शरद जोशी।

            शरद जोशी निर्धारित तिथि को निर्धारित समय पर महाविद्यालय पहुचे। नियमतः मुझे शरद जी का सम्मान करने हेतु महाविद्यालय के द्वार पर होना चाहिए था किन्तु विभागाध्यक्ष जी ने मुझे सभागार के अनुशाषन की जिम्मेदारी सौंपी थी। समय के पाबन्द शरद जी ने स्वयं महाविद्यालय की रिसेप्शनिष्ट से हिन्दी कार्यक्रम के स्थल की जानकारी प्राप्त की और कक्ष तक आ पहुंचे। इतना सरल इतना सहज इतना नेक इतना महान था शरद जी का व्यक्तित्व ! उनका व्यक्ति-पक्ष। पारखी-नजर इतनी तेज कि कार्यक्रम के उपरान्त अल्पाहार के समय तीन प्राध्यापिकाओं मे उन्होने सहज ही मुझे पहचानते हुए पूछा- फोन पर आप ही ने मुझे धमकाया था ना ! यह थे शारदीय व्यक्तित्व के धनी शरद जोशी। वापसी में उन्हे वर्ली के किसी दफ्तर जाना था। हमारी एक वरिष्ठ सहयोगिनी श्रीमती अरुणा दुआ जी के पास वाहन की सुविधा थी, सो हम साथ हो लिये। संयोग से मेरा घर शरद जी के गन्तव्य स्थल के समीप ही था सो हम साथ ही उतरे। वहॉं खड़े-खड़े शरद जोशी जी ने जो जानकारी दी, उसे हम पेशेवर गुरुओं की बेशर्मी ही कह सकते है। हुआ यह था कि जिस दिन शरद जी ने मेरे फोन के आग्रह को स्वीकार किया था, उसी शाम विभागाध्यक्ष महोदय ने उन्हे यह कहते हुए रोकने की कोशिश की कि मामूली से पत्रं पुष्पं के लिए वे मुम्बई के गोरेगॉव से पेडर रोड तक; लगभग 40 किमी की दूरी तय कर आने का कष्ट क्यों उठा रहें है। शरद जी का जवाब था- यह तो मेरा मामला है, आप दुखी क्यों हो रहे हैं।

            शरद जी अपने घर से हमारे महाविद्यालय तक स्वयं आये। न कोई राह-खर्च न किसी पत्रं पुष्पं की अपेक्षा। यह था एक व्यंग्यकार का शारदीय व्यक्तित्व !

            संभवत: उनके लेखन और व्यक्तित्व से प्रभावित होकर ही मैने अपने शोध का विषय – स्वातंत्र्योत्तर हिन्दी व्यंग्य निबंध चुना। प्रमुख व्यंग्यकारों में हरिशंकर परसाई, शरद जोशी, श्रीलाल शुक्ल, रविन्द्रनाथ त्यागी तथा नरेन्द्र कोहली जी रहे। शरद जोशी जी मुम्बई महानगर में उपलब्ध व्यंग्यकार थे |

परिचय भी हो ही गया था सो एक दिन समय लेकर उनके आवास पहुँच गयी। शरद जोशी जी स्नान, भोजन की चिन्ता किये बिना लगभग तीन घंटे तक व्यंग्य पर चर्चा करते रहे। मुझे छोड़ने मुख्य द्वार तक आये ही नही बल्कि सामने से बोले- कभी अपने घर भी बुलाइये।

            विश्वास नहीं कर पा रही थी कि इतना बड़ा व्यंग्यकार, इतने गहरे, इतने निर्मल व्यक्तित्व का धनी है। खैर उनकी सुविधा-अनुसार मेरे घर आने की तारीख तय हुई। उस दिन शरद जी को वर्ली के दफ्तर में शाम के 4 बजे आना था सो उन्होंने मुझे 6 बजे का समय दिया। वहॉं पहुँचकर देखती हूँ कि शरद जी पत्रिकाओं को पलटते हुए मेरी प्रतीक्षा में समय बिता रहें है। अधिकारी के साथ तय उनकी मुलाकात टल गयी थी वे चाहते तो किसी कर्मचारी को सूचना देकर निकल जा सकते थे। किन्तु शाम के 4 बजे से 2 घंटे वहीं रुके रहे। यह थे अपने नाम को सार्थक करने वाले, व्यंग्य की विसंगतियों को महसूस करने वाले शरद जोशी। मुझ जैसी अदना शोधार्थी के लिये दो घंटे दफ्तर में इन्तजार करने के बाद मेरे घर आये और रात के लगभग 11 बजे तक अनेकानेक सामाजिक, राजनीतिक, साहित्यिक मुद्दों पर बातें करते रहे। रात के 11 बजे गाड़ी उन्हे छोड़ने जा रही थी तो यह सोचकर मै भी साथ हो ली कि शरद जी का कुछ और सानिध्य- आनन्द ले लूं। पूरे रास्ते वे इस शोधार्थी को जानकारी देते रहे और लगभग एक घण्टे बाद जब उनके निवास पर पहुंचे तो मकान के नीचे खड़े-खड़े विषय पूरा किया। उनका एक वाक्य आज भी जेहन मे धॅसा हुआ है- आपके सामने समुद्र है! तय आपको करना है कि आप मात्र एक लोटा भरना चाहती है या उससे कहीं अधिक।

            शरद जी के शारदीय बड़प्पन से मन इतना अभिभूत रहता कि अक्सर अपनी मित्र-मण्डली, अपने अन्य सहयोगी-प्राध्यापकों से मै अपनी अनुभूतियॉं बॉंटती। सोफिया कॉलेज की नौकरी जा चुकी थी और अब मैं माटुंगा के महाविद्यालय में कार्यरत थी। यहॉं के विभागाध्यक्ष जी से अक्सर अपने विषय की चर्चा करते हुए शरद जी का प्रसंग आ ही जाता। एक बार विभागाध्यक्ष जी ने इच्छा जाहिर की कि मैं शरद जी से मुलाकात का समय मॉगू ताकि वे भी उनसे बात कर सकें। मैने सहज ही शरद जी को फोन पर अध्यक्ष जी की इच्छा बतायी ! मेरे भावुक मन के भोलेपन को पितृव्रत समझाते हुए शरद जी ने जानकारी दी कि मेंरे अध्यक्ष महोदय उनसे भलीभॉंति परिचित हैं, उन्हे स्वयं मुझसे बात करनी चाहिए।ष् शरद जी ने मुझे समझाया कि मै ऐसे अध्यक्षों के फेर में न पड़ू। यह थे शरद जोशी एक अनुभवी साहित्यकार, जिन्होने मेरी भावनाओं को चिन्तन का आधार दिया, सूझ-बूझ और लोगों को परखने की दृष्टि दी। याद आ रहा है रमेश दवे जी का वाक्य- श्शरद जी की उपस्थिति समाज के नैतिक साहस और लेखक के लोकदायित्व की उपस्थिति थी।श् कुछ मुलाकातों के बाद शरद जी मुझे अपनी जीवनी लिखवाने लगे और मेरे संकोच को दूर करते हुए उन्होने कहा था मै उन्हे फोन कर लिया करु, वे जब जितना बता पायेंगे मै लिखती जाऊॅं। मैने उत्साह भरे स्वर में कहा आप प्रतिदिन लिखते है मैं प्रतिदिन फोन कर लिया करुंगी। काश यह संकोची मन प्रतिदिन फोन कर लेता तो पद्म श्री शरद जोशी के जीवन के अनेकानेक बातों के धनी हो पाते हम ! करीब तीन-चार बार ही उनसे बात हो पायी और 5 सितम्बर 1991 को वे अकस्मात हम सब को छोड़कर चले गये। शरद जोशी जी की अंतरंग मुलाकातों को शब्द देना इसलिए जरूरी लगा कि हिन्दी जगत के एक धीर-गम्भीर व्यंग्यकार, चिन्तक के सहज-सरल मानवीय पक्ष से भी हम सब परिचित हो सकें।

            बात शरद जी के व्यंग्य और व्यंग्यकार की। एक ऐसे व्यंग्य, गद्य-व्यंग्यकार की जिसने अपनी भाषा का शिल्प स्वयं रचा। आपसी संवाद और बोलचाल का शिल्प। संवाद की कहन शैली में वैचारिक चिंतन और मंथन का शिल्प ! वाचन और श्रवण का लोकरंजक शिल्प। संवेदन-सिक्त समालोचन का सहभागी शिल्प। यह था समय का यथासंभव व्यंग्य। प्रतिदिन व्यंग्य, व्यंग्य ही व्यंग्य। निरन्तर अपनी जॉंच करते रहने की लेखकीय मजबूरी का व्यंग्य-ष्हर लिखना श्रेष्ठ लिखने का प्रयत्न सिर्फ इसलिए कि रचना का मकसद पूरा हो। अपनी बात समझाते हुए शरद जोशी लिखते हैं- ष्समस्या है लेखन की इस दौड़ -धूप में संगत-असंगत, न्याय-अन्याय, सही-गलत को लगातार हर लम्हा समझना और लिखते वक्त अपनी निजी विशिष्ट धारणा  को कटु यथार्थ भोगने वाले सामान्य जन की भावना की ऊॅंचाई तक पहुॅंचाने की कोशिश।ष् आगे शरद जोशी जी कहते हैं -ष्जिस देश के लोग हजारों वर्षों से आक्रमण, अत्याचार, अन्याय, भूख, गरीबी, बिमारी,निराशा सहन करते हुए अपने कतिपय मूल्यों, विश्वासों और आस्थाओं से जुड़े रहें हैं। उनमें जिन्दा रहने के लिए कोर्इ्र श्सेंस ऑफ ह्यूमरश्, कोई मस्ती जरूर रही होगी। हैं।............. उसंके बिना इन बर्षों तक जिंदगी का यह संघर्ष संभव हीं नहीं था.......... व्यंग पहचान है कि साहित्य कष्ट सहती जिंदगी के करीब है या जुड़ा हुआ है।.......... हिंदी जब सामान्य जन के भाषाई रंग और मस्ती में रहेगी व्यंग अधिक लिखा जायेगा। ष्

            शरद जी ने सामान्य जन के इस भाषाई रंग और मस्ती को इस गहरार्इ्र से पकड़ा कि वे व्यंग्य के पद्मश्री आसन पर प्रतिष्ठत हुए। ष्बाढ़ की चिन्ताष् शरद जी की लेखनी तक आते आते ष्चिन्ता की बाढ़ष् बन जाती है। ष्चाराष् शब्द मात्र पशुओं के आहार तक सीमित न रह भाईचारा तक पहुच जाता हैं। जनता दल से उनकी लेखनी पूंछती है- आखिर इसमें जनता कितनी है और दल कितना ? वह क्या श्जनताश् और क्या श्दलताश् है? हाल यह है कि स्वार्थ को समर्पित जनता उनकी लेखनी तक आते आते ष्अजनताष् बन जाती है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अंतुले से शरद जोशी प्रश्न करते है- तुले तुम अनतुले ही आए और अनतुले ही चले गये। तुम अंततः  तुलोगे, पर कब ? शरद जोशी का समग्र लेखन जन-पीड़ा के इसी रसात्मक संप्रेषण का लेखन है। लोक-जीवन के आंतरिक सौन्दर्य और उसके कल्पनाशील माया लोक का सम्प्रेषण है। वर्तमान जीवन शैली- हम भ्रष्टन के भ्रष्ट हमारे का साहित्यांकन है। खेल-खेल में चिन्तन और चिन्तन में खेल की अद्भुत जिंदादिली है। मनुष्य सरल, सहज, खराखरा होने के साथ ही जटिल, गम्भीर, दुरूह और त्रासद भी है। मनुष्य को उसके मूल रूप में पकड़ते हुए शरद जोशी का व्यंग्य मानव-पीड़ा का सहयात्री है। एक ऐसा सहयात्री जो कहीं कोंचते हुए छीलता है तो कहीं छीलते हुए कोंचता है। कहीं वह विशुद्ध खेलम-खेल है तो कहीं मखौल का अनावरण। इसमें लाखों निजी स्वर हैं। शर्मनाक जीवन-स्थितियाँ, शानदार राजनीतिक उपलब्धियाँ, अनमोल जीवन का अनमेलस्वरूप, भ्रष्ट अफसर, सत्ताधारी राजनीतिज्ञ, शर्मनाक जीवन - स्थितियाँ सभी कुछ की जिंदादिल परिक्रमा, जीवन के जितने भी पहलू हैं, हो सकते हैं, सभी का सम्पूर्ण आकलन, श्वेत-श्याम स्वरूप की प्रस्तुति है शरद जोशी के व्यंग्य। जहाँ-जहाँ डोलत सोई परिक्रमाका पक्षधर। जो जो करत सो सेवा“, “पुनि पुनि चन्दन पुनि पुनि पानी का वह जीवन जो समाज में यत्र-तत्र सर्वत्र

शरद जोशी जी के व्यंग्य पर व्यंग्यकार एवं व्यंग्य-समीक्षक- प्रेमजनमेजय जी कहते हैं कि शरद जोशी होने के अनेक अर्थ हैं पर सबसे महत्वपूर्ण अर्थ है - जीवन भर अनर्थ के विरूद्ध लड़ते रहना

मैनें अक्सर ही श्रेष्ठ व्यंग लिखा हैंकहते हुए शरद जी स्वीकार करते हैं कि हर रचना पहली रचना लिखनी की कोशिश, उत्साह और भय के साथ लिखना पड़ती है ..... हर लिखना श्रेष्ठ लिखने का प्रयत्न सिर्फ इसलिए कि रचना का मकसद पूरा हो।आगे वे लिखते हैं - व्यंग पहचान है कि साहित्य कष्ट सहती सामान्य जिन्दगी के करीब है या जुड़ा हुआ है। शरद जी सामाजिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक हर प्रकार की समस्याओं की गहरी समझ के साथ हल्के ढंग से व्यंग्य करते हैं - भूतपूर्व प्रेमिकाओं को पत्र लिखते हुए शरद जोशी लिखते हैं - उन दिनों हिंदी साहित्य छायावाद छोड़ चुका था और मायावाद में फंस चुका था। ... जिन होंठों के अचुम्बित रहने का रिकार्ड बंदे ने पहली बार तोड़ा था, उन पर तुम्हारें पातिव्रत्य की आज ऐसी लिपस्टिक लगी है, जैसे मेरी कविता की कॉपी पर धुल की तहें।

शरद जोशी की व्यंग्य रचनाओं से गुजरना केवल विसंगतियों और घोर स्खलनों की गलियों से भटकना भर नहीं, अपितु भाषा और शिल्प की एक चमत्कारी प्रदर्शनी की यात्रा भी है।  उनके व्यंग्य में कहीं परिवेश के अंतर्विरोध नजर आते हैं, कहीं कहावतें भरी लोकभाषा । परिक्रमा, किसी बहाने, जीप पर सवार इल्लियाँ,

रहा किनारे बैठ, तिलस्म, दूसरी सतह, पिछले दिनों, मेरी श्रेष्ठ व्यंग्य रचनायें, यथा - सम्भव, हम भ्रष्टन के भ्रष्ट हमारे, मुद्रिका रहस्य, यथासमय, नदीं में खड़ा आदमी, घाव करें गम्भीर आदि रचनाओं में शरद जी की व्यंग्य-सम्पदा एकत्र हैं। इन सब में न जाने कितने विषयों पर कितनी भंगिमाओं में शरद जोशी का व्यंग्य संकलित हैं। कम- से - कम शब्दों में अधिक से अधिक अर्थ की प्रस्तुति ही उनके व्यंग्य का केन्द्रीय वैशिष्ट्य है। विसंगितियों के शिकार बने शरद जोशी ने अपने अनुभवों की प्रमाणिकता के माध्यम से विसंगितियों के मूल की तलाश की और उन पर प्रहार किये। डॉ0 भगीरथ बड़ोले निर्मलजी के शब्दों में उनका प्रखर लेखन मानव जीवन को कुरूप बनाने वालों के विरूद्ध किसी स्वाभिमानी मनुष्य का ऐसा लेखन है, जिसके अपने सपने तथा तमाम संघर्ष जीवन के सौन्दर्य से सम्पन्न करने की साधना से सम्बद्ध है।

रमेश दवे जी के शब्दों में शरद जोशी व्यंग्य में अपनी आत्मा के अक्षर उकेरते थे। वे व्यंग्य में मनुष्य के प्रति आस्था जीते थे, एक संवेदनशील मनुष्य - चरित्र जीते थे और वह नैतिकता जीते थे।

व्यंग्य - अध्येताओं की जानकारी के लिए साहित्य अकादेमी द्वारा प्रकाशित रमेश दवे जी की पुस्तक- शरद जोशीष् का परिचय प्रस्तुत करते हुए अपनी बात को विराम देती हँू - शरद जोशी हिन्दी के एक ऐसे व्यंग्यकार हैं, जिनके सृजन ने हिन्दी साहित्य में अपना ही व्यंग्य-समय रचा और व्यंग्य को एक स्वायत्त, स्वतंत्र और लोकप्रिय विधा के रूम में स्थापित किया। शरद जोशी का व्यंग्य मनुष्य के जीवनगत अनुभवों का व्यंग्य है, धरती का व्यंग्य है, मनुष्य के दुःख-सुख की धड़कनों का व्यंग्य है। उनके व्यंग्य आहत करने के बजाय राहत देते हैं, शब्द-हिंसा की अपेक्षा शब्द -करुणा और शब्द- रंजना देते हैं। वे आंतरिक क्षोभ की अभिव्यक्ति भी हैं और बाह्य जगत के छद्मों के विरूद्ध अनासक्ति भी। शरद जोशी के व्यंग्यों में कविता का-सा रस, कहानी का सा कसाव और निबंधो की-सी बौद्धिकता का सहज समन्वय है। उनका व्यंग्य चेतना का व्यंग्य है, अंतश्चेतना का भी और बाह्य चेतना का भी। उनका व्यंग्य राज का भी व्यंग्य है, समाज का भी व्यंग्य है। वन और जीवन, गति और दुर्गति, नीति और अनीति, क्षोभ और क्षेम, विरह और प्रेम, व्यवस्था और अवस्था और समय एवं अवकाश सब कुछ उनमें व्यंग्य बनकर प्रकट होते हैं।

- डॉ0 शशि मिश्रा

6 comments:

  1. व्यंग्यकार शरद जोशी के कृतित्व को उद्घाटित करते हुये लेखिका ने उनके व्यक्तित्व के जिन अंशों पर प्रकाश डाला है वे उन्हें समझने में पर्याप्त सहायक हैं .

    ReplyDelete
  2. बहुत ख़ूब,सारगर्भित और जानकारी युक्त अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  3. अच्छी जानकारी मिली आपके इस लिखे से

    ReplyDelete
  4. शरद जोशी जी के बारे में इस सहज और सह्रदय लेख को पढ़ कर बहुत अच्छा लगा । धन्यवाद, आदरणीया ।

    ReplyDelete
  5. शरदजी के व्‍यक्तित्‍व के कुछ अनूठे पहलू जानने का मौका मिला इस आलेख से। धन्‍यवाद।

    ReplyDelete
  6. उच्च कोटी के व्यक्ति ही सरलता के धनी होते हैं, यह नितांत सत्य है। श्री शरद जोशी के महान व्यक्तित्व व कृतित्व से रूबरू कराने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद महोदया!

    ReplyDelete

पश्चिम में स्त्री-विमर्श और स्त्री-लेखन

यूरोप में 15वीं सदी के इतालियन रैनेसां की चरम परिणिति 18वीं सदी के ज्ञान-प्रसार आंदोलन  के रूप में हुई, जिस दौर में बुद्धिवाद चिंतन के केंद्...