औरों को हँसते देखो मनु हँसो और सुख पाओ, अपने सुख को विस्तृत कर लो, सबको सुखी बनाओ ! - कामायनी

Labels

Monday, 20 February 2012

बकरी बनाम शेर -राहुल देव


पहले बकरियाँ
मिमियाती थीँ
और शेर
दहाड़ते थे
अब बकरियाँ
दहाड़ती हैँ
और शेर
मिमियाते हैँ
क्योँकि जंगल बदल गया है
अब बकरियाँ शेर
और शेर बकरियाँ हो गए हैँ
कुछ दिनोँ बाद शायद लोग
बकरियोँ की जगह शेर चरांएगे
और बेचारे शेर
बकरियोँ के लिए
शिकार मार कर लाएंगे।

-(राष्ट्रधर्म मेँ प्रकाशित)


0 comments:

Post a Comment