औरों को हँसते देखो मनु हँसो और सुख पाओ, अपने सुख को विस्तृत कर लो, सबको सुखी बनाओ ! - कामायनी

Labels

Friday, 27 May 2011

Hindustan ki awaaz...





'''
RAHUL DEV

0 comments:

Post a Comment